यथार्थ (दोहावली)

यथार्थ (दोहावली)

प्यार में है शक्ति बहुत, जो इसे अपनाए
सुख शांति से दिन बीते, मान यश वो पाए

उसका नाश होता ही, जिस मन छल समाए
नहि कपटी के घर वृद्धि, जितना ले कमाए

सारी दुनियाँ घूम के, निकट माँ के आए
माँ का स्पर्श पाते ही, सब थकन मिट जाए

जिस मन सच का वास हो, वहाँ राम समाए
मनुज विजय आराम से, हर विध्न पे पाए

काम आए दोस्त जब, दुश्मन क्यूँ बनाए
कहत अभी ये जान ले, काम दोस्त आए

–अभिषेक कुमार झा ”अभी”
+91-9953678024

Advertisements

हाइकु ! माँ से प्रार्थना करती हुई

हाइकु ! माँ से प्रार्थना करती हुई

हाथ उठे हैं
अब तेरी बारी है !
द्वार खड़े हैं…

पुकारे सब
माँ ममता रानिएँ !
सुन ले अब…

करुणामयी
जग पालनकर्ता !
ममतामयी…

त्रासदी यहाँ
लूट पाट मचा है !
मैं जाऊँ कहाँ…

शक्ति अपार
जाने सारा संसार !
माँ हमें तार…

भीख़ माँगते
माँ तू झोली भर दे !
मेहरावाली…

–अभिषेक कुमार झा ”अभी”
+91-9953678024