होली के रंग हाइकु संग

होली के रंग हाइकु संग

होरी के रंग
राधे गोविंदा संग
पीओ जी भंग
-१-
छोड़ो कलाई
नाहि करो ढ़िठाई
कृष्ण कन्हाई
-२-
सुन रे गोरी
करूँगा बरजोड़ी
आई है होरी
-३-
बंसी बजाए
गोपी रास रचाए
मन हर्षाए
-४-
देख नज़ारा
सभी करे इशारा
रंग दे मारा
-५-

—अभिषेक कुमार ”अभी”
+91-9953678024

Advertisements

हाइकु ! माँ से प्रार्थना करती हुई

हाइकु ! माँ से प्रार्थना करती हुई

हाथ उठे हैं
अब तेरी बारी है !
द्वार खड़े हैं…

पुकारे सब
माँ ममता रानिएँ !
सुन ले अब…

करुणामयी
जग पालनकर्ता !
ममतामयी…

त्रासदी यहाँ
लूट पाट मचा है !
मैं जाऊँ कहाँ…

शक्ति अपार
जाने सारा संसार !
माँ हमें तार…

भीख़ माँगते
माँ तू झोली भर दे !
मेहरावाली…

–अभिषेक कुमार झा ”अभी”
+91-9953678024